विनय कुमार मिश्र गोरखपुर ब्यूरों।
ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित होने वाली ऑटो रिक्शा जिनका जीवन काल 10 वर्ष एवं शहरी क्षेत्रों में संचालित होने वाले ऑटो रिक्शा जिनका जीवन काल 7 वर्ष और विद्यालय में संचालित होने वाली बसें जिनका जीवन काल 15 वर्ष पूरा हो चुका है वह तत्काल अपने वाहन कबाड़ खाने में बेचकर पंजीयन चिन्ह निरस्त करा दें अन्यथा प्रवर्तन टीम चेकिंग के दौरान संचालित पाए जाने पर सीज की कार्रवाई विभाग द्वारा की जाएगी। उक्त बात की जानकारी बातचीत के दौरान एआरटीओ श्याम लाल ने  दी।
एआरटीओ श्याम लाल ने बताया कि  परिवहन अधिनियम की धारा-22 के तहत जिन गाड़ियों का समय अवधि निर्धारित  प्रारूप में दिए गए नियम के तहत पूरा होता है तो उसका फिटनेस परमिट टैक्स जारी नही होता है।सभी वाहन इस बात पर ध्यान दे नही तो कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

Post A Comment: