सुलतानपुर

 जिलाधिकारी विवेक ने राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत् जनपद में पोषण अभियान की समीक्षा के दौरान सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि कुपोषण मुक्त गांव जो गोंद लिए नामित अधिकारी हैं, उसका भ्रमण कर अपनी आख्या उपलब्ध करायें, ताकि बचे हुए गांवों को शीघ्र ही कुपोषण मुक्त घोषित किया जा सके। 
जिला कार्यक्रम अधिकारी (आईसीडीएस) दिनेश सिंह ने जिलाधिकारी को बताया कि जनपद के चिन्हित 138 गांव में से 104 गांव कुपोषण मुक्त घोषित किये जा चुके हैं। अवशेष 34 गांव को कुपोषण मुक्त किये जाने हेतु जिलाधिकारी ने नामित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि नियमित रूप से अपने-अपने गांव का भ्रमण कर जो बच्चे अतिकुपोषित हैं, उन्हें जिला चिकित्सालय में 10 बेड का पोषण पुर्नवास केन्द्र में भर्ती कराकर उनका उपचार कराना सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने स्वस्थ्य भारत प्रेरक शिवानंद शुक्ला को निर्देशित किया कि जनपद के समस्त विकास खण्डों का नियमित रूप से भ्रमण कर पोषण अभियान की गहन समीक्षा करते हुए पायी गई कमियों और उसके निराकरण हेतु सुझाव उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री सिंह ने बताया कि पोषण अभियान के अन्तर्गत आज जिले में बाल विकास पुष्टाहार विभाग द्वारा संचालित आंगनवाड़ी केन्द्रों पर दुर्गा अष्टमी के पर्व पर अनुपूरक पोषाहार द्वारा बनाये गए व्यंजनों से कन्या भोज का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य कुपोषण के प्रति  समाज में जागरूकता एवं अनुपूरक पोषाहार से बने व्यंजनों का प्रदर्शन एवं उसके उपभोग के प्रति जन जागरूकता पैदा करना है। उन्होंने बताया कि जनपद में 14 बाल विकास परियोजना संचालित हैं, जिसमें कन्या भोज का आयोजन बाल विकास परियोजना अधिकारियों के नेतृत्व में आंगनवाड़ी केन्द्रों पर किया गया। श्री सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय पोषण मिशन (पोषण अभियान ) का एक प्रमुख घटक नवाचार एवं जन आन्दोलन है, जिसके तहत् जन समुदाय को साथ लेकर कुपोषण के प्रति जन आन्दोलन चलाना है। 

Post A Comment: