विनय कुमार मिश्र, गोरखपुर ब्यूरों।
मिठाइयां, पटाखे और दीप के बिना दीपावली की कल्पना करना बेमानी है। खासकर दीप और पटाखों  के बगैर  दीपावली  सुनी है । देखने में  आकर्षक लगने वाले  पटाखे  कभी कभी  खतरनाक  हो जाते हैं और इससे आग लगने की संभावना बढ़ जाती है । शहर की भौगोलिक स्थिति और बढ़ती हुई जनसंख्या को देख कर आग लगने जैसी घटना होने पर जान माल का भारी नुकसान हो सकता है। आग लगने पर उस पर काबू पाने की पूरी जिम्मेदारी अग्निशमन विभाग की होती है लेकिन वर्तमान स्थिति को देखकर लगता है कि अग्निशमन विभाग की तैयारियां पूरी नहीं है। वहीं इस सम्बंध में मुख्य अग्निशमन अधिकारी डी0के0सिंह ने बताया कि शहर के लोगों की सुविधा के लिए प्रशासन ने पटाखा बाजार के लिए 12 स्थानों को चिन्हित किया है । इन सभी 12 स्थानों का बाकायदा सर्वे करके अग्निशमन विभाग ने किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए कार्य योजना तैयार कर रखी है । इसके अलावा विभाग ने शहर की घनी आबादी के लिए भी प्लान तैयार कर रखा है ताकि किसी अप्रिय घटना से समय रहते निपटा जा सके। मुख्य अग्निशमन अधिकारी डी0के0 सिंह ने बताया कि शहर में विभिन्न स्थानों को चिन्हित करके आग बुझाने के लिए उपलब्ध वाहनों को विभिन्न स्थानों पर तैनात रखा जाएगा । बावजूद इसके अग्निशमन विभाग द्वारा पर्याप्त जागरूकता अभियान न चलाने से लोगों में जागरूकता की कमी नज़र आ रही है।

Post A Comment: