अमित कुमार की रिपोर्ट
आज झारखण्ड कंप्यूटर्स ट्रेडर्स एसोसिएशन के बैनर के तले राज्यभर के छोटे-बड़े कुल मिला के लगभग 800-850 कंप्यूटर व्यपारियों ने अपनी संस्थान के कर्मचारियों के साथ अपनी-अपनी प्रतिष्ठान बंद कर निर्माता कंपनी और ऑनलाइन सेल के नाम पर उनके गलत नीतियों के खिलाफ झारखण्ड चेम्बर ऑफ़ कॉमर्स के सभागार में बैठक कर अपनी अपनी बातें रखीं। बैठक मे समिति के अध्यक्ष मोती सिंह ने कंपनी की गलत नीतियों पर विस्तार पूर्वक बतलाया कि कैसे एक ही ब्रांड का सामान का दाम ऑनलाइन मार्केट में अलग और लोकल मार्किट में अलग अलग हो सकता है जब की उसी सामान को हमारे पास ग्राहक को उपलब्ध कराने के लिये निर्माता कंपनी के प्रतिनिधि ही आते है, यह तभी संभव है जब हमारे लीये उस सामान का मूल्य अलग और ऑनलाइन वालों के लये सोच-समझ कर अलग रखा जाता है। कभी-कभी तो सामान के दाम में अन्तर इतना हो जाता है कि कंपनी के राज्य में पदस्थापित प्रतिनिधि भी ऑनलाइन मे उपलब्ध दर के देख का अपना सर पकड़ कर बैठ जाते हैं और इस आश्चर्यजनक अन्तर का उनके पास भी कोई जवाब नहीं होता।
संस्था के सचिव आकाश कृष्ण ने अपनी बातोँ को कड़े शब्दों में रखते हुये कहा की कुछ मल्टीनेशन कंपनीयाँ योजनाबद्ध तरीके से लोकल मार्किट को धीरे-धीरे समाप्त कर भारत के व्यापार पर अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहती उनकी इस मंशा को आज देश के व्यापारिवर्ग जान चुके हैं और हम सब एक जुट हो कर जरुरत पड़ने पर राज्य सरकार का भी ध्यान इस ओर आकर्षित करेंगे।
अपनी बातों को रखते हुए कार्यकारणी के सदस्य अभिषेक कुमार ने ऑनलाइन खरीद से होने वाले नुकसान के  तरफ ध्यान दिलाते हुये कहा कि आज ऑनलाइन बाजार में ठग व्यपरियों की चांदी हो राखी है| उनके द्वारा नकली सामानो को भरपूर मात्रा में उपलब्ध कराकर कम कीमत दर्शाते हुये ऑनलाइन उपभोक्ता को ठगा जा रहा है और साथ ही साथ सरकार के राजस्व को भी चुना लगाने का काम किया जा रहा है। वैसे व्यपरियों की संख्या ऑनलाइ कंपनी में लगातार बढ़ती ही जा रही है।
JCTA के राज्य प्रतिनिधि सुशील कुमार ने इस विरोध प्रदर्शन को कम्प्युटर व्यपरियों की राष्ट्रिय संस्था FAIITA के साथ मिलकर पूरे देश में अपने दस सदसीय टीम के साथ इस कार्यक्रम को आगे तक ले जाने का संकल्प लिया था।
समिति की ओर से अशोक करनानी ने बतलाया की आज के दिन एक ही साथ धनबाद, बोकारो, जमशेदपूर, देवघर दुमका हजारीबाग तिलेय गुमला, चाइबासा एवं अन्य शहरों में भी इसी तरह  का प्रदर्शन हो रहा है\ इस सभा को   प्रशांत चौधरी, मुकेश झा, संतोष मिश्रा , डी टी  खान ने भी अपनी अपनी बातों को सदस्यों के समक्ष रखा। इसके बाद व्यापारियों एवं कर्मचारियों की यह सभा को प्रदर्शन मार्च में तब्दील कर मेन रोड से अलबर्ट एक्का चोक तक गयी और एक उपभोक्ता को जागरूक करते हुये निर्माता कंपनी को कड़ा संदेश देने का काम किया। जिसमे रंजीत कुमार, प्रदीप बहल, काशी कान्त झा, विकाश टाक, विनय कुमार का काफी सहयोग रहा।

Post A Comment: