जहानाबाद: प्राचीन रॉककट गुफाओं के लिए प्रसिद्ध
वाणाबर पहाड़ी की तलहटी में पर्यटन विभाग और जिला प्रशासन द्वारा वाणावर महोत्सव का आयोजन
किया गया जिसका उद्घाटन राज्य के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने किया । इस अवसर पर प्रमोद कुमार ने कहा कि बराबर बाबा सिद्धनाथ की भूमि है । साथ ही यहां पर तीसरी शताब्दी की बौद्ध गुफाएं हैं जहां आजीवक संप्रदाय के तपस्वी रहा करते थे । उन्होंने कहा कि बिहार में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अनेक कारगर कदम उठाए गए हैं और प्रमुख स्थलों को रामायण सर्किट, जैन सर्किट, बौद्ध सर्किट तथा सूफी सर्किट से जोड़ा गया है । महोत्सव में भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें बॉलीवुड की प्रसिद्ध गायिका कल्पना पटवारी और बिहार की प्रसिद्ध लोकगायिका डा नीतू कुमारी नवगीत ने भक्ति गीतों तथा पारंपरिक लोक गीतों की शानदार प्रस्तुति करके दर्शकों का मन मोहा । कल्पना पटवारी के गीतों पर दर्शक देर तक झूमते रहे । वहीं नीतू कुमारी नवगीत ने बिहार के पारंपरिक गीतों पर लोगों को झुमाया । नीतू नवगीत ने विद्यापति रचित जय-जय भैरवी के माध्यम से मां दुर्गा की आराधना की । उसके बाद राम और सीता जी के प्रथम मिलन पर आधारित गीत देख कर रामजी को जनक नंदिनी, बाग में बस खड़ी की खड़ी रह गई पेश किया । उन्होंने पिपरा के पतवा फुनिगिया  डोले रे ननदी, वैसे डोले जियरा हमार झूमर और अभियान गीत या रब हमारे देश में बिटिया का मान हो भी पेश किया । उनके साथ राकेश कुमार ने हारमोनियम पर  राजन कुमार प्रथम ने कैसी हो पर  राजन कुमार द्वितीय ने  तबला पर और भोला कुमार ने नाल पर संगत किया । जहानाबाद के स्थानीय कलाकारों शिवकुमार विक्कू, अभिषेक सिंह,अवनीश कुमार, सुनैना कुमारी, काजल गुप्ता, अनुपम कुमार, रजी अहमद आदि ने भी अपने गीतों पर उपस्थित दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया । इस अवसर पर जहानाबाद के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष, उप विकास आयुक्त रामरूप प्रसाद, भूमि सुधार उप समाहर्ता अमलेंदु कुमार, परितोष कुमार, जिला सूचना अधिकारी शंभूनाथ झा, अमिताभ सिन्हा, संजीव कुमार सहित जिले के सभी आला अधिकारी और गणमान्य अतिथि उपस्थित रहे ।

Post A Comment: