पूर्व रक्षा मंत्री स्व0 जॉर्ज फर्नाडिस के पार्थिव शरीर पर मुख्यमंत्री ने पुष्पचक्र अर्पित कर दी श्रद्धांजलि

पी न्यूज़ डेस्क- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने दिल्ली स्थित पंचशील पार्क में स्व0 जॉर्ज फर्नाडिस के आवास पर जाकर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया एवं उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी । उन्होंने स्व0 फर्नाडिस की धर्म पत्नी से मुलाकात कर अपनी शोक संवेदना व्यत की। भाव - विह्वल होते हुए मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि श्री फर्नाडिस का निधन उनके लिए व्यक्तिगत क्षति है । उनके निधन से उन्होंने अपना अभिभावक खो दिया है । पत्रकारों से बात करते हुए अपने शोकोद्गार में मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि जॉर्ज साहब के निधन से हम सभी अत्यन्त मर्माहत हैं। पिछले कुछ दिनों से वे बीमार चल रहे थे । जॉर्ज साहब का जो योगदान इस देश की राजनीति में रहा है और जो कुछ भी उन्होंने समाज के लिए किया है वह सदैव याद रखा जाएगा। सिद्धांत एवं समाजवादी विचारधारा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता सदैव रही। उनकी इच्छाशक्ति काफी मजबूत थी। अपनी युवा अवस्था से ही उन्होंने जिस ढंग से लोगों के हक की लड़ाई लड़ी उसे भुलाया नहीं जा सकता है। संसद में उनका योगदान काफी महत्वपूर्ण रहा । रक्षा मंत्री , रेल मंत्री एवं अन्य मंत्रालयों के मंत्री के तौर पर उनकी भूमिका भुलायी नहीं जा सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जॉर्ज साहब हमलोगों के न सिर्फ नेता थे बल्कि वे अभिभावक भी थे। 1994 में उन्हीं के नेतृत्व में नई पार्टी बनी । उनके नेतृत्व और मार्गदर्शन में जो कुछ भी सीखने का अवसर मिला और आज जो कुछ भी लोगों की सेवा करने की कोशिश करते हैं इसमें उनका ही योगदान रहा है । मुख्यमंत्री ने कहा कि वे उनके अंतिम संस्कार में शामिल होंगे । उनके पुत्र अमेरिका में हैं जो कल तक आ पायेंगे । उनके आने के बाद ही अंतिम संस्कार होगा । मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि वे जॉर्ज साहब के आदर्शों एवं उनके बताये हुए रास्ते पर हमेशा चलते रहेंगे । इस अवसर पर बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह , सांसद श्री आर0सी0पी0 सिंह , पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री शाहनवाज हुसैन , बिहार राज्य योजना पर्षद के सदस्य श्री संजय झा एवं अन्य भी मौजूद थे । विदित हो कि दिवंगत नेता श्री जॉर्ज फर्नाडिस के सम्मान में बिहार सरकार ने दो दिनों ( 29 जनवरी एवं 30 जनवरी , 2019 ) की राजकीय शोक की घोषणा की है ।

Post A Comment: