पलटन साहनी की रिपोर्ट
समस्तीपुर जिले के O रोसरा अनुमंडलीय अस्पताल रोसरा म शिफ्ट मैनेज पर चलता है डॉक्टर 8 घंटा ड्यूटी रहने के बाद भी समय से न आते हैं न समय पर जाते हैं बिहार राज स्वास्थ्य समिति के द्वारा 102 नंबर की दो एंबुलेंस रोसरा अनुमंडल अस्पताल को मिला जिसमें एक ही एंबुलेंस चल रहा है एंबुलेंस ड्राइवर परमानंद प्रसाद गाड़ी नंबर बीआर 01 पीडी 1276 एंबुलेंस पर टेक्नीशियन अजीत कुमार रहते हैं वहीं दूसरा एंबुलेंस 102 मुर्दा वाहन स्वास्थ्य समिति समस्तीपुर में 2 माह पूर्व 102 वाहन रखा गया है गाड़ी नंबर बीआर 0 1087 चार स्टॉप जयराम सिंह चालक रोहित पासवान चालक अमर कुमार टेक्निशियन विकास कुमार स्टाफ को बिना चिट्ठी का सिविल सर्जन द्वारा बैठा दिया गया है
उपाधीक्षक डॉ राणा विश्व विजय सिंह कहते हैं विधायक डॉक्टर अशोक राम रोसरा दिए गए एंबुलेंस पर ना कोई ड्राइवर है और न कोई इसका डीजल ईंधन देने वाला भी नहीं है ढकोसला बना हुआ है यह एंबुलेंस दिखाने के लिए एंबुलेंस देने से क्या फायदा है वहीं 60 लाख की लागत से 2005 में सांसद रामचंद्र पासवान ने इमरजेंसी मेडिकल एंबुलेंस प्रदत किया था इसमें आंशिक सेवा हो सकती है कभी ड्राइवर का ना होना कभी पार्ट पुर्जे टूट जाना यही गति चलती है एंबुलेंस उद्देश से भटक गई है दूसरी एंबुलेंस पशुपतिनाथ एनजीओ पटना द्वारा प्रदत किया गया वह भी अपनी सेवा देने में नाकाम रहे इस एंबुलेंस का विशेष कार्य पर प्रसूता को अस्पताल तक लाना और रेप और मरीज को बाहर हॉस्पिटल तक पहुंचाना रोसरा अस्पताल में उपाधीक्षक एक चिकित्सा पदाधिकारी 6 अस्पताल प्रबंधक 1 फार्मासिस्ट दो टेक्निशियन एक अनुबंध लेब टेक्निशियन प्रथम श्रेणी परिवारी का 12 है इस  अस्पताल में 15 सेवाएं जैसे वाहन रोगी रोगी आपातकालीन सेवा सेल चिकित्सा संस्थागत प्रसव पूर्व परिषद प्रसाद प्रसाद जांच महिला बंध्याकरण ऑपरेशन सुविधा परिवार कल्याण संबंधित सभी सुविधा पुरुष नसबंदी परिवार कल्याण संबंधित सभी सुविधाएं नियमित टीकाकरण जांच सुविधा एक्सरे 102 एंबुलेंस अस्पताल को दी गई लेकिन डॉ मैनेजमेंट का ड्यूटी लगाते हैं यहां के डॉक्टर अनुमंडलीय अस्पताल में कुत्ता काटने पर जो दवा मिलती है एंटी रेबीज इसको छोड़ अनुमंडलीय अस्पताल में 123 तरह की दवा उपलब्ध है

Post A Comment: