मोतीपुर से सुधीर कुमार की रिपोर्ट


 मोतीपुर ( मुजफ्फरपुर ): मोतीपुर के महिमा गोपिनाथपुर निवासी बाबूलाल साह की सड़क हादसे में हुई मौत के बाद शव के साथ एन एच 28 को जाम कर मुआवजा की मांग कर रहे लोगों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है. दरोगा देवेंद्र शर्मा के बयान पर दर्ज किए गए प्राथमिकी में 8 लोगों को नामजद और 100 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है. सड़क जाम करते गिरफतार तीन लोगों को पुलिस ने मंगलवार को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है. जिन लोगों को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है उसमें हिंदुस्तान सम्पूर्ण आजाद पार्टी के दलित प्रकोष्ठ के प्रखंड महासचिव माधोपुर निवासी श्यामदेव राम, महिमा गोपिनाथपुर निवासी रौशन कुमार और पूर्वी चंपारण जिला के केसरिया थाना के त्रिलोकवा नीवसी उत्तिम साह शामिल है. यहां बताते चलें कि 30 दिसम्बर को सरैया में एक स्कार्पियो की ठोकर से बाइक सवार बाबूलाल साह की मौके पर ही मौत हो गई थी. जबकि उसका भाई मोहन साह जख्मी हो गया था. मोहन अब भी अस्पताल में जीवन और मौत से जूझ रहा है. सोमवार को जैसे ही बाबूलाल साह का शव पोस्टमार्टम के बाद गाँव पहुचा लोग आक्रोशित हो गए. मुआवजे की मांग को लेकर लोगों ने शव के साथ काली मंदिर के समीप एन एच कप जाम कर दिया. जाम हटाने पहुची पुलिस को लोगों पर लाठी चार्ज करना पड़ा था. जिसमे कई ग्रामीण सहित पुलिसकर्मी भी जख्मी हुए थे. थानाध्यक्ष कुमार अमिताभ में सभी को जेल भेजे जाने की पुष्टि किया है.

Post A Comment: