चोरी हुई राम जानकी की मूर्ति गेहूं की खेत से बरामदगी



जिला रिपोर्टर धर्मपाल पटेल
सहयोगी अखिलेश कुमार
       पी न्यूज वैशाली
वैशाली:-जंदाहा प्रखंड के तीसीऔता थाना क्षेत्र की नारी खुर्द पंचायत अंतर्गत नारी कला रामजानकी मठ से बीते 9 जनवरी 2019 बुधवार की देर रात अज्ञात चोरों द्वारा मंदिर में स्थापित अति प्राचीन भगवान राम लक्ष्मण एवं जानकी जी की अष्ट धातु निर्मित मूर्ति चोरी कर ली गई थी। जिसकी कीमत लाखों में आंकी गई है। राम जी एवं जानकी जी की मूर्ति ग्रामीणों के सहयोग से बरामदगी हुई जबकि लक्ष्मण जी की मूर्ति की खोज अब भी जारी है।
मिली जानकारी के मुताबिक रविवार को रामजानकी मठ से लगभग छः सौ फुट पूरब जव के खेत में एक बच्चे जव हरा चारा काटने के लिए गया। हरा चारा काटने के क्रम में बच्चे को भगवान राम का हाथ मिला खुशी के मारे बच्चे भगवान राम का हाथ लिए दौड़ते हुए गांव पहुंचा और यह हाथ गांव के मुखिया पति रामानंद पासवान को सुपुर्द करते हुए कहा कि हमें भगवान का यह हाथ जव काटने के क्रम में मिला है। यह खबर पूरे गांव में जंगल में लगी आग की तरह फैली। रामानंद के नेतृत्व में चंद्र मोहन झा,अरुण कुमार सिंह, मनोज झा, गोलू कुमार ,बिरजू कुमार ग्रामीणों के साथ भगवान के मूर्ति खोजने रविवार को अहले सुबह निकल पड़े खोजने के क्रम में गेहूं के खेत से राम जी एवं जानकी जी का मूर्ति मिला परंतु राम जी का मूर्ति से सर अलग पाया गया एवं जानकी का आंख फोड़ा गया एवं पैर के तलवे कटा हुआ पाया मिला। भगवान लक्ष्मण का मूर्ति अभी तक नहीं मिल पाया है खोजने का प्रयास ग्रामीणों द्वारा जारी है। बरामद मूर्ति को तीसीऔता थाना पुलिस को सुपुर्द कर दिया गया है क्योंकि मूर्ति चोरी का प्राथमिकी पूर्व से ही तिसीऔता थाना में दर्ज है। ग्रामीणों ने पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए कहा है कि 3 माह बीतने के बाद भी वह अभी तक चोरी गई मूर्ति को खोज नहीं पाई।
ज्ञात हो की इस मठ से 2011 में भी अज्ञात चोरों द्वारा भगवान राम लक्ष्मण एवं जानकी जी का अति प्राचीन मूर्ति की चोरी कर ली गई थी। स्थानीय लोग एवं पंचायत के तत्कालीन मुखिया छोटे लाल राय के अथक प्रयास से तत्कालीन थानाध्यक्ष के एम सिंह एवं दारोगा विकास कुमार द्वारा ग्रामीणों के काफी दबाव के कारण लगातार छापेमारी कर घटना के लगभग 2
दो महीने बाद एक बगीचा से लावारिस हालत में बरामद किया था सभी मूर्ति का हाथ के उंगली एवं आंख गायब थे। सभी मूर्ति को थाना से बैंड बाजे के साथ लाकर क्षतिग्रस्त मूर्ति का मरम्मत करा कर विधिवत पूजा पाठ करा कर पुनः स्थापित कराया गया था। लेकिन 3 माह बितने के बाद भी पुलिस को अब तक चोरों का पता नहीं लग सका पुलिस के हाथ अब भी खाली है।

Post A Comment: