शंकर दयाल शर्मा की रिपोर्ट नालंदा: फ्री में कोचिंग पढ़ाने से मना क‍िया तो लॉज के कुछ छात्रों ने संचालक को बेरहमी से पीटा

नालंदा जिला मुख्यालय बिहारशरीफ नगर थाना क्षेत्र के देकलीघाट स्थित सन्नी रिजनिंग क्लासेज के संचालक सन्नी कुमार को फ्री नहीं पढ़ाने से नाराज लॉज के कुछ छात्रों ने बेरहमी से पिटाई कर दी जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए. घटना की सूचना मिलते ही अन्य कोचिंग के संचालक मौके पर पहुंचे और घायल को सदर अस्पताल ले गए जहां से चिकित्सकों ने उन्हें पटना रेफर कर दिया.
हालांकि घायल का इलाज बिहारशरीफ के एक निजी क्लीनिक में चल रहा है और फिलहाल वह आइसीयू में भर्ती है. कोचिंग संचालकों ने बताया कि कुछ दिन पहले लॉज के कुछ छात्र कोचिंग आए थे और फ्री पढ़ाने की मांग कर रहे थे जिस पर संचालक ने कहा कि वह फ्री नहीं पढ़ाएंगे.
हां फीस में कुछ रियायत दे देंगे. बावजूद इसके शनिवार को सुबह पौने सात बजे 15 की संख्या में लॉज के छात्र कॉलेजिएट गेट के सामने उन्हें घेर कर बल्ला, हॉकी व विकेट से मार- मार कर अधमरा कर दिया और भाग निकला.
घटना की सूचना मिलते ही डीएसपी इमरान परवेज व थानाध्यक्ष दीपक कुमार निजी क्लीनिक पहुंच कर कोचिंग संचालक का हालचाल लिया और इसके बाद घटना स्थल पर पहुंच कर लोगों से पूरे मामले की जानकारी ली. डीएसपी इमरान परवेज ने बताया कि छात्रों को चिंहित कर लिया गया है. जल्द ही सभी की गिरफ्तारी होगी.
घर से निकलने का इंतजार कर रहे थे छात्र
घटना की सूचना पर निजी क्लीनिक पहुंचे कोचिंग संचालक ने बताया कि सन्नी कुमार प्रोफेसर कॉलोनी में विजय मुखिया के घर में किराए के मकान में रहते है. मूल रूप से वह नवादा जिला के न्यू एरिया के रहने वाले है. उनका पहला बैच 7 बजे से शुरू होता है जिससे की जानकारी छात्रों को थी. जैसे ही वह घर से निकले पूर्व से घात लगाए छात्रों ने उन्हें मारना शुरू कर दिया. वह जान बचाने के लिए घर की तरफ भागे लेकिन आरोपियों ने उन्हें दौड़ा- दौड़ा कर पीटा लेकिन किसी ने बचाने की कोशिश नहीं की.
सीसीटीवी कैमरा में कैद हुआ छात्रों का चेहरा
थानाध्यक्ष ने बताया कि आरोपी छात्रों का चेहरा सीसीटीवी में कैद हो गया है. प्रत्यक्षदर्शियो ने बताया कि सभी छात्र मारपीट कर यादव छात्रावास की ओर भागे थे. पुलिस सीसीटीवी फुटेज को खंगाल रही है. घटना स्थल से लेकर घर के सामने तक सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ था लेकिन सभी कैमरे खराब निकले.
लॉज से परेशान है शहर के कोचिंग संचालक
संचालकों ने बताया कि इससे पहले भी एक लॉज के छात्र जबरन फ्री में पढ़ने के लिए संचालक पर दबाव बना रहे थे. उस समय भी छात्रों ने कोंचिग में घुसकर तोड़फोड़ की थी. घटना के तुरंत बाद कोचिंग संचालकों का एक दल तत्कालीन एसपी व डीएसपी से मिला था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. संचालकों का कहना है कि देकली घाट इलाके में यह आम दिन की बात हो गई है. शिक्षक पढ़ाए या ऐसे गुंडे टाइप छात्र के डर से कोचिंग बंद कर दे. पहले सुरक्षा के नाम पर पुलिस इलाके में गश्ती भी करती थी लेकिन अब तो कोई आता ही नहीं. आसपास के लॉज के छात्र आए दिन गुंडागर्दी करते है. छात्राएं भी सुरक्षित नहीं है.

Post A Comment: