रांची. रांची जिले में 255 नए दारोगा की थानों में पोस्टिंग हो गई है। नए दारोगा के जिले के 54 थानों, ओपी और साइबर थाना में भेजा गया है। अब ये कांडों के अनुसंधान, विधि व्यवस्था और ओडी ड्यूटी सहित अन्य काम में लग गए हैं। इनके आने से थानों में अधिकारियों की कमी लगभग खत्म हो गई है। एसएसपी का निर्देश है कि नए दारोगा को थानों में हर तरह के काम की जानकारी दी जाए। एसएसपी ने सभी थानों को निर्देश दिया है कि कांडों के अनुसंधान में तेजी लाए और पेंडिंग केसों की संख्या घटाएं।

नए दारोगा थानों में दैनिक अपराध रिपोर्ट, अपराध मानचित्र व चार्ट, थानेदार के साथ पेट्रोलिंग, अपराधियों के संबंध में नजर रखने व उनके बारे में जानकारी जुटाने, डायरी लिखने आदि के बारे में सीखने के साथ-साथ इन कार्यों में सहयोग कर रहे हैं।

शहर के बड़े थाना को 10-10 नए दारोगा मिले हैं। सदर थाना को 10, कोतवाली को 11, बरियातू को 10, लालपुर को 11, डोरंडा को 10, अरगोड़ा को 10, लोअर बाजार को 8, जगन्नाथपुर को 8, धुर्वा को 7, बुंडू को 8, सिल्ली को 7, पंडरा ओपी को 7, तमाड़ को 7, नगड़ी को 7, पिठौरिया को 7, कांके को 9, गोंदा को 7, गोंदा को 7, खलारी को 7, चुटिया को 6 और रातू थाना को 7 नए दारोगा मिले हैं। इसके अलावे अन्य थाना व ओपी को शेष नए दारोगा दिए गए हैं।

रांची के अधिकांश थानों में अधिकारियों के कुल स्वीकृत पद के 70 फीसदी खाली थे। इस वजह से कांड के अनुसंधान में देरी हो रही थी। इन दारोगा के आने से सभी पद भर गए हैं। थानों में पेंडिंग केसों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही थी। नए दारोगा के आने से अब थानेदार यह नहीं कह सकेंगे कि उनके यहां अधिकारियों की कमी है।

Post A Comment: