फुलहारा महोत्सव

फुलहारा महोत्सव के संदर्भ में स्वच्छता सह वृक्षारोपण अभियान
भास्कर चौधरी के नेतृत्व में चलाया गया । पूरे गांव के साफ - सफाई के साथ - साथ सैकड़ो पेड़ लगाया गया ।

इस मौके पर पंचायत के मुखिया नवीन झा उमंग चौधरी , सौरभ चौधरी , आशीष झा ,सुरेश नारायण चौधरी ,
 हिमाशु झा समेत गाँव के बुजुर्ग युवा अधिकतर संख्या में उपस्थित थे ।

“वृक्षारोपण से ही पृथ्वी पर सुखचैन है
इसे लगाओ जीवन का एक महत्वपूर्ण संदेश है.”
वृक्षारोपण के बाद वक्ताओं ने कहा कि -पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण की वजह से वृक्षारोपण की आवश्यकता इन दिनों अधिक हो गई है।

वृक्षारोपण से तात्पर्य वृक्षों के विकास के लिए पौधों को लगाना और हरियाली को फैलाना है।

वृक्ष स्वयं धूप में रहकर हमें छाया देते हैं । जब तक हरे-भरे रहते हैं तब तक हमें फल, सब्जियां देते हैं और सूखने पर ईंधन के लिए लकड़ी देते हैं । इन्हीं वृक्षों की हरी पत्तियों और फलों को खाकर गाय, भैंस, बकरी आदि जानवर दूध देते हैं जिसमें हमें प्रोटीन मिलता है ।

इन्हीं वनों से पृथ्वी को बंजर होने से बचाया जाता है । वन भू-क्षरण और पवन स्खलन को रोकते हैं । अपनी हरियाली से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं और देश की प्रगति में आर्थिक सहयोग देते हैं । फूलों से मधुमक्खियां मकरंद लेकर शहद बनाती हैं जिससे आयुर्वेदिक दवाइयां बनती हैं और वह खाने में उपयोगी होता है ।


प्रत्येक नागरिक का कर्त्तव्य है कि वह अपने जीवन में एक वृक्ष अवश्य लगाए । आज का स्वार्थी मानव पेड़ तो काटता गया लेकिन पेड़ लगाना भूल गया जिससे यह समस्या आज इतनी उग्र हो गई ।


मौके पर मंतोष चौधरी ,विवेक कुमार ,  रंजीत ठाकुर  , अम्पिक झा , भैरव झा , बंसन्त झा , मनोज झा , एवं सकैडो ग्रामवासी उपस्थित थे ।




Post A Comment: