ऐसे समय में जब हम महिलाओं के सशक्तीकरण को लेकर गर्व महसूस करते हैंहमारे देश का एक वर्ग ऐसा भी हैजहां का विकास देश के बाकी हिस्सों की तुलना में धीमा है। अब जागने का समय आ गया है। क्‍योंकि ये जो आकंड़े हमारे पास हैं, वो आपको इस बाबत सोचने को मजबूर कर देंगे।   
लिंगानुपात-
देश के लिंगानुपात के विपरीत जो प्रत्येक 1000 पुरुषों के लिए 943 महिलाओं के बराबर हैराजस्थान का लिंगानुपात प्रत्येक 1000 पुरुषों के लिए 928 महिलाओं का है। हालांकि अब लिंगानुपात 888 जैसे निराशाजनक आकड़े से बढ़कर ऊपर आ गया हैलेकिन हमें अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है।
बालविवाह-
एक ऐसी उम्रजब बच्चियों को स्कूलों में ज्ञान की खोज करनी चाहिएएक बड़ी प्रतिशत लड़कियों की शादी वयस्क होने से पहले ही हो जाती है। लगभग 26.80% भारतीय लड़कियों की शादी कम उम्र में की जाती हैवहीं राजस्थान की 35.40% लड़कियों की शादी 18 वर्ष की आयु से पहले कर दी जाती है।
किशोरियों में कुपोषण
दुर्भाग्य सेराजस्थान में किशोरकिशोरियों के कुपोषण की दर अधिक हैजो एक ही समय में चौंकाने वाला है। युवा लड़कों की तुलना में बहुत अधिक संख्या में युवा लड़कियां एनीमिया की शिकार हैं। 15 से 19 आयुवर्ग की 8000 से अधिक लड़कियां कुपोषण के कारण एनीमिया के शिकार हैंजबकि इसी आयु वर्ग के 1185 लड़के भी इसी समस्या से जूझ रहे हैं।

स्कूल ड्रॉप आउट  
शादी व घरेलू कमाई में योगदान करने के दबाव के कारणराजस्थान की युवा लड़कियां अपनी किशोरावस्था में स्कूल छोड़ देती हैं। 15-16 वर्ष की एक विशाल संख्याकरीब 20.10% लड़कियां राजस्थान में स्कूल ड्राप आउट हैंजबकि शेष भारत में यह आंकड़ा 13.50% है। इन ड्रॉप आउट के कई कारण हैजैसे आठवीं कक्षा के बाद स्कूल में कठिन पहुंचस्कूलों में महिलाओं के लिए सुरक्षा और स्वच्छता की कमी और लड़कियों और लड़कों के बीच निवेश का अंतर। स्कूलों में लड़कियों के लिए बेहतर निवेश की दिशा में काम करना हमें फ़ायदा दे सकता है।
जैसा कि हम अपने व्यक्तिगत जीवन में महिलाओं और लड़कियों की सफलता का जश्न मनाते हैंहमें राजस्थान में इन आँकड़ों को समान करने के लिए आवश्यक परिवर्तन लाने में योगदान देने के लिए समाज के बाकी लोगों के बीच शिक्षा और जागरूकता फैलाने का भी संकल्प लेना चाहिए। 

Post A Comment: