मुख्यमंत्री ने किया समस्तीपुर स्थित नरघोघि में 591 करोड़ रुपये की लागत से राम जानकी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल के भवन निर्माण कार्य का शिलान्यास सह कार्यआरम्भ,
तीन साल में यह अस्पताल बनकर तैयार हो जाएंगे।

समस्तीपुर से एम नईमुद्दीन आज़ाद के साथ के के संजय की रिपोर्ट !

समस्तीपुर : समस्तीपुर के सरायरंजन ब्लॉक के नरघोघि गाँव मे 591.77 करोड़ रूपये की लागत से केंद्र प्रायोजित योजना अंतर्गत श्री राम जानकी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का विधिवत आधारशीला एवं कार्य की शुरुआत करते हए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार स्वास्थ्य सहित अन्य विकास जनित कार्य क्षेत्रों में काफी आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि यह चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल तीन साल के अंदर बनकर तैयार हो जाएगा और यहां छात्र छात्रा  पढ़ाई करने लगेगा। उन्होंने कहा कि बिहार से स्वास्थ्य की इलाज के लिए बाहर जाने की  जरूरत नही पड़ेगी। सारी आधार भूत व्यवस्थाएं इस अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज में उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने विगत सात वर्षों से इस अस्पताल एवं महाविद्यालय में  भूमि उपलब्धता में वे व्यवधान का जिक्र किया तथा कहा कि रामजानकी मठ के द्वारा मुफ्त में 21 एकड़ भूखण्ड दिए जाने की कारण ही इस कार्य को आरम्भ करने में सफल हुई है। उन्होंने ईसके लिए बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, मठ के सदस्यों तथा  बिहार के स्वास्थ्य विभाग को धन्यवाद दिया,तथा कहा कि इन लोगों के प्रयास के कारण ही कॉलेज स्थापित हो पाया है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि जिस पार्टी की पति पत्नी की सरकार पन्द्रह साल राज्य में राज किया वे बतावे की उनकी सरकार की कार्यकाल में कितने मेडिकल कॉलेज खुलें.....
उन्होंने कहा की समस्तीपुर जिला में मेडिकल कॉलेज खुले इसके लिए जरूरी नही की समस्तीपुर शहर में ही खुले। ऐसा विवाद खड़ा कर अपना नुकशान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे अपने सहयोगी मंत्री से भी इसके बारे में पूछेंगे। उन्होंने कहा कि हर जिला में इंजीनियरिंग कॉलेज,पारा मेडिकल कॉलेज, नरसिंह कॉलेज स्थापित किए जाएंगे।  उन्होंने अपने सम्पूर्ण भाषण में अधिकांश समय जल वायु में परिवर्तन से हो रहे नुकशान पर्यावरण की बचाव भूजल की रक्षा,जल संचय वृक्षा रोपण,मौसम के अनुकूल खेती फसल अवशेष के उपयोग आदि के सम्बंध में विस्तार पूर्वक चर्चा किया तथा कहा कि बिहार पिछड़ेपन की मार से ऊपर उठे इसके लिए हम सभी को प्रयास करना चाहिए। उन्होंने बिहार की बढ़ती आबादी शिक्षा की कमी बताया तथा कहा कि उनकी सरकार सबको शिक्षा मिले इसके लिए ततपर है और सरकारी स्तर पर विद्यालय एवं शिक्षकों की कमी न हो इसके लिए काफी प्रयास किया जा रहा है। बिहार के उप मुख्यमंत्री शुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह मेडिकल कॉलेज देश का पहला मेडिकल कॉलेज होगा जो राम जानकी के नाम से स्थापित हो रहा है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद बनी कॉंग्रेस की केंद्र और राज की सरकार बिहार के साथ अनदेखी किया। एक भी मेडिकल कॉलेज खोलने की आवश्यकता नही समझा। अबकी सरकार इस दिशा में काफी तेजी से कार्य कर रही है। 15 मेडिकल कॉलेज राज्य में स्थापित हो चुके हैं, आने वाले दिनों में मेडिकल कॉलेज तथा उससे चिकित्सा प्राप्त कर निकलने वाले चिकित्सकों की कमी नही रह जायेगी। ईधर स्वास्थ मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि उनकी सरकार स्वास्थ्य सुविधाएं मिले इसके लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि अगले पांच वर्षों में 28 मेडिकल कॉलेज स्थापित हो जाएंगे। उन्होंने सरकारी अस्पतालों में 150 तरह के दवाओं की उपलब्धता जिक्र जहां किया वही कहा कि चिकित्सकों की कमी को दूर की जायेगी

Post A Comment: