P NEWS
गढ़वा कांडी से बबलु के रिपोर्ट

गढ़वा : जिले के कांडी प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत प्रसिद्ध सतबहिनी झरना तीर्थ स्थल के 24 एकड़ भूमि को हड़पने के अलावे स्वास्थ्य मंत्री सह क्षेत्रीय विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने कुछ नहीं किया।उक्त बातें सरकोनी पंचायत मुखिया प्रतिनिधि सह पूर्व कमिटि के उपाध्यक्ष अरुणोदय सिंह उर्फ अरुण सिंह ने रविवार को एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से पोल खोला है ।उन्होंने बताया कि आज से ठीक एक वर्ष पूर्व मंत्री ने छठ पूजा के ही दौरान करोड़ो रूपये की लागत से सतबहिनी के विकास की घोषणा की थी।

जबकि आठ महिना पूर्व 28 फरवरी 2019 को पांच विभिन्न योजनाओं का विधवत शिलान्यास किये थे ।लेकिन आज तक निर्माण कार्य शुरू भी नही हुआ।भवन प्रमंडल विभाग गढ़वा से उक्त सभी योजनाओं का निर्माण होना है।उन्होंने कहा कि 9,79,200 की लागत से सोलर लाइट का अधिष्ठापन ,5,65,900 राशि से स्थल के पथ के दोनों ओर तोरण द्वार का निर्माण कार्य,43,33,100 से छठ घाट का निर्माण,24,84,600 की लागत से दो अदद सामुदायिक शौचालय का निर्माण तथा 24,77,500 की लागत राशि से फुटब्रिज का चौड़ीकरण तथा पथवे का विकास कार्य शामिल है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य मंत्री सह क्षेत्रीय विधायक- रामचंद्र चंद्रवंशी ने तो जनता के साथ छल किया हीं, किन्तु मां भगवती के साथ भी सबसे बड़ा विश्वासघात किया है।
उन्होंने बताया कि मंत्री ने पहले तो चोरी-चुपके फर्जी आमसभा कर उक्त स्थल को ट्रस्ट बनाया।साथ ही सरकोनी पंचायत के मुखिया को अपने विश्वास में लेकर सतबहिनी झरना तीर्थ स्थल में भक्ति जागरण कार्यक्रम कराया, जिसमें मुखिया सहित जिला वासियों व मां के भक्तों के सामने मंच से घोषणा किया कि ट्रस्ट का अध्यक्ष वर्तमान विधायक होंगे। साथ ही सतबहिनी में पुल-पथ चौड़ीकरण, छठ घाट निर्माण, शौचालय, विवाह मंडप, धर्मशाला आदि कई कार्य कराने का घोषणा किये लेकिन 24 एकड़ भूमि में कोई भी विकास कार्य नहीं हुए।विधायक मद हो या ट्रस्ट का पैसा। अभी बर्तमान छठ पूजा में झरना की पानी को जेसीबी से गढा कर पानी को निकाला गया है ।अभी तक मात्र यही एक बिकास का काम हुआ है।उल्टे आम जनता के सहयोग से बने सभी मंदिर, पुल- पुलिया, छठ घाट के साथ समतल किया हुआ सभी 24 एकड़ भूमि पर कब्जा किये है। पूर्व कमिटी के द्वारा किए गए विकास कार्यों पर मंत्री ने अपना आधिपत्य जमाया है। पिछले वर्ष छठ में मंच से विकास करने का घोषणा किए थे।इस वर्ष 2019 में साउंड लगाकर घोषणा करा रहे हैं कि जनता न्यास बोर्ड में आस्था जता रही है। अरुण सिंह ने बताया कि यह छठ की भीड़ मां के भक्तों के साथ छठ पर्व में आस्था रखने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ थी। आम-आवाम तो फरवरी 2019 के यज्ञ में ही अपना पूर्ण रूप से समर्थन पूर्व कमेटी को दे दिया है। सतबहिनी झरना तीर्थ के भूमि एवं मंदिर के लूटने के विरोध में ट्रस्ट के खिलाफ उच्च न्यायालय में केस भी चल रहा है।उन्होंने बताया कि उक्त स्थल को एक सुन्दरनुमा तीर्थ स्थल बनाने के लिए मां के भक्तों ने बीस वर्षों में एक-एक पैसा जुटाकर सतबहिनी का विकास किया है।
उन्होंने कहा कि मंत्री केवल यह बताएं की 24 एकड़ भूमि में अभी तक उनके द्वारा कौन-कौन काम हुआ। साथ ही उन्होंने जागरण में किए घोषणा की ट्रस्ट के अध्यक्ष वर्तमान विधायक होंगे, इसे भी नहीं सुधार सके हैं।उन्होंने कहा कि उनके द्वारा सतबहिनी के लूटने का मैं पूर्णरूप से विरोध करता हूं।हां, एक काम रामचंद्र चंद्रवंशी ने जरूर किया है की सतबहिनी को लेकर कुछ लोगों पर केस दर्ज व 107 हुआ है।

Post A Comment: