शंकर दयाल शर्मा नालंदा।

बिहारशरीफ लोक आस्था का चार दिवसीय महान छठ पर्व का दूसरे दिन आज छठव्रतियों ने खरना की प्रसाद बना संध्या में भगवान भास्कर की पुजा अर्चना कर ग्रहण किया। श्रद्धा एवं धार्मिक वातावरण मंे पुजा अर्चना कर छठवर्तियों ने आस पड़ोस एवं मित्र को भी प्रसाद खिलाया। लोकआस्था महान स्थल बड़गांव जहां इस अवसर पर भगवान भास्कर का अघ्र्य देने बिहार के अलावे झारखंड, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, बंगाल समेत देश के कोने कोने से महिला व पुरूष छठव्रती पहुंचें। अन्य जगहों से आये छठवर्तियों ने तालाव के इर्द-गिर्द खुले मैदान में टेंट बनाकर कर रहे। इसी स्थल पर छठवर्तियों ने खरना का प्रसाद बनाया एवं परिजनों के साथ ग्रहण किया।  खरना के प्रसाद ग्रहण के बाद से ही शनिवार को अस्ताचलगामी भगवान भास्कर के अघ्र्य देने की तैयारी में जुट गये। ऐसा मानना है कि बड़गांव में छठपर्व करने से मनोकामना पूरी होती है। इस अवसर पर छठवर्तियों एवं अन्य महिलाओं एवं पुरूषों ने बड़गांव स्थित तालाव में स्नान करने के बाद षाष्टांग दण्डबत करते हुए भगवान सुर्य के मंदिर पहुंच पुजा अर्चना करते है। ऐसी मान्यता है कि इस तालाव में स्नान करने से कुष्ट रोग से भी निजात मिलता है। इसी मान्यता को देश के कोने कोने से महिला पुरूष बड़गांव पहुंचते है। कतरीसराय में चार दिवसीय लोक आस्था के महापर्व पर छठव्रतियों कि सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए प्रखंड के सभी घाटों कि साफ सफाई बिजली पेयजल कि सुविधा जैसे मुल भूत सुविधाओं को मुहैया करते हुए प्रखंड क्षेत्र के कई घाटों का निरीक्षण बीडीओ राकेश कुमार ने किया। बीडीओ ने बताया कि हिंदू धर्म में लोक आस्था का बिहार तथा आस पास के चार पांच राज्यों का लोकआस्था का पर्व है। ये पर्यावरण तथा वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण माना जाता है।

Post A Comment: