समस्तीपुर जिले के हसनपुर क्षेत्र में मानव श्रृंखला को लेकर कागजी कार्रवाई जोरों पर परंतु भौतिक सत्यापन शिथिल ।विदित हो कि मानव श्रृंखला को लेकर जोर शोर से प्रशासनिक तैयारी की जा रही है जो कि 19 जनवरी को होनी है ,इसके लिए चयनित मार्ग भारद्वाज कॉलेज से लेकर पटसा तथा पटसा गांव से लेकर सरहचिया तक सड़क की जर्जर ता किसी से छुपी हुई नहीं है ।हरेक वर्ष इसी मार्क का चयन मानव श्रृंखला के लिए किया जाता है लेकिन आज तक ना तों प्रशासनिक स्तर पर और ना ही जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस सड़क की सुध ली गई सिर्फ सेटेलाइट के द्वारा सड़कों का चयन तो कर लिया जाता है लेकिन उसका भौतिक सत्यापन कोई नहीं करता सड़क की दुर्दशा जगह-जगह खड्डे, किचर जलजमाव का आलम यह है किस सड़क पर चलना लोगों के लिए मुसीबतों से भरा हुआ है फिर भी इलाके के लोग इस सड़क पर चलते हैं ।कई दशकों पहले पटसा हसनपुर पथ का निर्माण हुआ था लेकिन बीते 25-30 वर्षो से इस सड़कों की सुध लेने वाला कोई नहीं है। इसी तरह पटसा से मंगलगढ़ होते हुए सरसिया सड़क जिसका  पिछले दिनो कार्य भी प्रारंभ हुआ था लेकिन अभी तक कार्य मंद गति से ही चल रही है आलम यह है कि पटसा जगन्नाथपुर काले आदि गांव में मुख्य सड़क  पर जलजमाव गड्ढे हैं अब 19 तारीख को स्कूली बच्चे और आम लोग इस सड़क पर मानव श्रृंखला बनाएंगे लेकिन क्या यह मानव श्रृंखला गड्ढे कीचड़ और जलजमाव के ऊपर से होकर गुजरेगी इस बात की सुध ना तो प्रशासनिक स्तर पर ली गई और ना ही इलाके के विधायक ,सांसदों आदि जनप्रतिनिधियों के द्वारा ली गई लोग भगवान भरोसे अपनी दिनचर्या भी पूरी करते हैं और शायद इसी तरह मानव श्रृंखला का भी निर्माण करेंगे।
न्यूज बाय के के संजय

Post A Comment: